Posted By wpadmin
“हाथ खुलने”की ही देरी थी और यहाँ सेना ने बिना वक्त जाया किये हुए उठा दिया ये कदम !

जम्मू-कश्मीर में आतंकी और पत्थरबाज अपनी घटिया हरकतों के चलते बाज नही आ रही थी. आतंकियों और पत्थरबाजों को सबक सिखाने के लिए केंद्र सरकार पूर्ण प्रयास कर रही थी और भारतीय सेना उन्हें मुंहतोड़ जवाब दे रही थी. लेकिन राज्य की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती और उनकी सरकार पत्थरबाजों को लेकर ख़ास कदम नहीं उठा रही थी और सेना के ऑपरेशन आल आउट में भी समर्थन नही दे रही थी. जिसके चले मोदी सरकार कोई बड़ा कदम नहीं उठा पा रही थी. जिसके बाद 19 जून को बीजेपी ने महबूबा मुफ़्ती को बड़ा झटका देते हुए अपना समर्थन वापस ले लिया और सरकार गिरवा दी. सरकार गिरने के बाद राज्य में राज्यपाल शासन लागु हो गया है.

एक्शन में मोदी सरकार Image Source

गठबंधन की सरकार गिरते ही सेना आई एक्शन में 

जम्मू-कश्मीर में गठबंधन की सरकार गिरते ही केंद्रीय सुरक्षाबल एक्शन में आ गये हैं. अब घाटी में आतंकियों और पत्थरबाजों की आफत आने वाली है. सरकार गिरने के बाद ही सेना ने घाटी में सक्रीय 180 आतंकियों की नयी हिट सूची तैयार की हैबताया जा रहा है कि इस लिस्ट के अनुसार 107 आतंकी हिजबुल से जुड़े हुए हैं. इसी के साथ इस सूची में 50 विदेशी आतंकियों के नाम को शामिल किया गया है जो घाटी में आतंक फैलाना चाहते हैं. वहीँ बताया ये भी जा रहा है कि सेना को 40 ऐसे नामों के बारे में भी पता चला है जिन्होंने रमजान के महीने के दौरान आतंक के रास्ते को चुन लिया है.

पीडीपी से अलग हुई होकर बीजेपी ने दिया महबूबा को बड़ा झटका Image Source

इन आतंकियों पर आंधी बनकर टूटेगी सेना 

यह लिस्ट तैयार करने के बाद भारतीय सेना के जवानों ने इनकी तलाश में एक बड़ा ऑपरेशन जारी कर दिया है. इस ऑपरेशन के तहत दक्षिण और उत्तरी कश्मीर में छिपे आतंकियों को उनके अंजाम तक पहुंचाकर जन्नत के लिए रवाना किया जायेगा. वहीँ सुरक्षाबलों का यह भी प्रयास है कि जो नवयुवक विदेशी आतंकियों के बहकावे में आकर आतंक के रास्ते पर आ गये हैं उन्हें किसी तरह वापस सामाजिक मुख्यधारा में वापस लाया जाए. सेना का कहना है कि जो विदेशी आतंकी कश्मीर के नौजवानों को बहकाकर हथियार थमा रहे हैं उन्हें किसी भी परिस्थिति में नहीं छोड़ा जायेगा और चुन चुन के मारा जायेगा.

एक्शन में आई सेना Image Source

गौरतलब है कि बीते पांच महीनों से घाटी के अलग-अलग गाँवों से करीब 150 लोग लापता हुए हैं. इनको लेकर सेना आशंका जता रही है कि इन लोगों ने कहीं आतंक का रास्ता नहीं चुन लिया हो. घाटी में 90-100 के बीच ऐसे युवक हैं जिनके परिजनों ने उनके लापता होने की गुमशुदगी की रिपोर्ट दर्ज कराई है, बाकी के घरवालों ने पुलिस में किसी प्रकार की सूचना दर्ज नहीं करवाई है. जिससे यही साफ़ होता है कि इन लोगों के घरवालों को अपने बच्चों के बारे में पता है.

180 आतंकियों की सूची तैयार Image Source

जिसके चलते सुरक्षाबल के जवान इन लोगों के परिवार से जानकारी जुटाने की कोशिश में लगी हुई है. सूत्रों के अनुसार जो लड़के गायब हुए हैं वह इन इलाकों से हैं-शोपियां, बांदीपुरा, पुलवामा, अनंतनाग और बारामुला हैं. जानकारी के लिए बता दें भारतीय सेना ने ऑपरेशन आल आउट के दौरान सर्वाधिक आतंकियों को इन्ही इलाकों से ढेर किया है. अब सेना    इन इलाकों से ढूढ़-ढूंढकर आतंकियों का सफाया करेगी.

आतंकियों को लेकर मोदी सरकार के कदम से आप संतुष्ट हैं? कमेंट करके अपनी राय दे सकते हैं.

News Source