Posted By wpadmin
हडकंप मचाने वाला खुलासा : बीजेपी ने तोड़ दिया गठबंधन क्योंकि महबूबा मुफ़्ती ने अमरनाथ यात्रा…

भारतीय जनता पार्टी ने जम्मू-कश्मीर में बढ़ती हिंसा पर महबूबा मुफ़्ती की सरकार को असफल होने पर सरकार से अपना समर्थन वापस लेने के फैसले से सबको चौंका दिया. किसी ने उम्मीद नहीं की होगी कि भाजपा इस इस तरह का भी फैसला ले सकती है. वहीँ भाजपा के इस फैसले के पीछे की जो सबसे महत्वपूर्ण वजह सामने आ रही है उसके बारे में जानकर आप भी हैरान रह जाओगे. इतना ही शहजाद पूनावाला ने भी इसको लेकर एक ट्वीट किया है.

Source

शहजाद ने अपने इस ट्वीट में भाजपा और पीडीपी के गठबंधन टूटने की सबसे बड़ी वजह को बताया है. शहजाद ने अपने इस ट्वीट में लिखा है कि “केंद्र सरकार जम्मू-कश्मीर में होने वाली अमरनाथ यात्रा को लेकर कुछ जानकारी प्राप्त करना चाहती थी.जिससे सेना यात्रा के लिए सुरक्षा के इंतजाम कर सके और शुजात बुखारी, औरंगजेब के हत्यारों की सख्ती से खोज चाहती थी, लेकिन महबूबा मुफ़्ती ने ऐसा करने से मना कर दिया. जिसके चलते सरकार ने गठबंधन से अलग होना बेहतर समझा.”

शहजाद के इस ट्वीट पर यूजर्स ने उनकी बात का समर्थन भी किया है और अपनी प्रतिक्रिया भी व्यक्त की है.

वहीँ आपकी जानकारी के लिए बता दें कि महबूबा मुफ़्ती ने भी मुख्यमंत्री पद से इस्तीफ़ा देने के बाद प्रेस कॉन्फ्रेंस में मीडिया से बातचीत करते हुए कहा था कि ” भारतीय जनता पार्टी जम्मू-कश्मीर में सख्ती की नीतियाँ लागू करने की बात करने लगी. उन्होंने कहा कि ऐसी नीति राज्य में नहीं चलेगी. इसी के साथ महबूबा ने कहा कि दोनों पार्टियां अलग-अलग विचारधारा को मानती हैं, लेकिन फिर भी बड़े विजन को साथ लेकर BJP के साथ गठबंधन किया गया था.

Source

महबूबा मुफ़्ती ने अपने बयान से साफ़ कर दिया कि वह राज्य में आए दिन हो रही घटनाओं पर सख्ती नहीं दिखाएंगी वहीं भाजपा सख्ती को लेकर डटी रही और इसका अंत गठबंधन के टूटने के साथ हुआ. भाजपा घाटी में जो हालात बन रहे हैं उनका समाधान निकालना चाहती थी इसी के चलते भाजपा ने सख्ती का रास्ता अपनाने की बात कही लेकिन महबूबा नरमी की बात कहती रहीं.

जिस तरह से महबूबा मुफ़्ती का पिछले तीन सालों में भाजपा के साथ गठबंधन रहा उसे देखकर क्या लगता है भाजपा को ये गठबंधन पहले ही तोड़ देना चाहिए था या सही समय पर फैसला लिया है ? इस पर आप अपनी प्रतिक्रिया हमें कमेंट कर दे सकते हैं.